Class 12 Physics Chapter 8 Notes in Hindi वैद्युतचुम्बकीय तरंगे

यहाँ हमने Class 12 Physics Chapter 8 Notes in Hindi दिये है। Class 12 Physics Chapter 8 Notes in Hindi आपको अध्याय को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेंगे और आपकी परीक्षा की तैयारी में सहायक होंगे।

Class 12 Physics Chapter 8 Notes in Hindi

परिभाषा – वे तरंगे, जिनमें वैद्युत तथा चुम्बकीय क्षेत्र सदिश परस्पर लम्बवत् तथा समान कला में होते हैं तथा इनके लम्बवत इन तरंगों का संचरण होता है, वैद्युत चुम्बकीय तरंगे कहलाती है। या

जिन तरंगों के संचरण के लिए माध्यम की आवश्यकता नहीं होती है, उन्हें वैद्युत चुम्बकीय तरंगे कहते हैं।

वैद्युत चुम्बकीय तरंगो के गुण

  • यह तरंगे त्वरित आवेशित कणो द्वारा उत्पन्न होती है।
  • ये तरंगे प्रकाश की भाँति परावर्तित व अपवर्तित होती है।
  • इनकी ऊर्जा वैद्युत तथा चुम्बकीय क्षेत्रों में विभाजित होती है।
  • इन तरंगों के संचरण के लिए माध्यम की आवश्यकता नहीं होती।
  • इन तरंगों के प्रवाह की दिशा के लम्बवत् वैद्युत क्षेत्र दोलन करता है और इन दोनों दिशाओं के अभिलम्ब दिशा मे चुम्बकीय क्षेत्र दोलन करता है।
  • वैद्युत चुम्बकीय तरंगे उदासीन होती है, अत: वे वैद्युत व चुम्बकीय क्षेत्री द्वारा विक्षेपित नहीं होती है।
  • किसी पारदर्शी माध्यम मे वैद्युत चुम्बकीय तरंग की चाल –
वैद्युत चुम्बकीय तरंगो के गुण
  • ये तरंगे वैद्युत तथा चुम्बकीय क्षेत्र में प्रभावित नहीं होती, परंतु फोटोग्राफिक प्लेट को प्रभावित करती है।
  • इन तरंगों से प्रकाशिक प्रभाव वैद्युत क्षेत्र वेक्टर के कारण ही होता है।
  • प्वॉन्टिंग सदिश का औसत मान तरंग की तीव्रता की परिमाण व दिशा दोनों में ही दर्शाता है।

मैक्सवेल की समीकरणे

मैक्सवेल ने विद्युत तथा चुम्बकत्व के आधारभूत नियमों को गणितीय रूप दिया, इन्हें मैक्सवेल के समीकरण कहते है।

(1) वैद्युत का गौस का नियम :-

इसके अनुसार, किसी बन्द पृष्ठ से बद्ध विद्युत फ्लक्स पृष्ठ द्वारा मिले नेट आवेश (q) का 1/Eo गुना होता है।

वैधुत का गौस का नियम

(2) चुम्बकत्व का गौस का नियम :-

इसके अनुसार, किसी बन्द पृष्ठ से बद्ध चुम्बकीय फ्लक्स सदैव शून्य होता है।

चुम्बकत्व का गौस का नियम

(3) विद्युत चुम्बकीय प्रेरण का फैराडे का नियम :

 इसके अनुसार, किसी बन्द परिपथ में प्रेरित विद्युत वाहक बल परिपथ से बद्ध चुम्बकीय फ्लक्स मे परिवर्तन की दर का ऋणात्मक होता है।

विद्युत चुम्बकीय प्रेरण का फैराडे का नियम

(4) ऐम्पियर मैक्सवेल परिपथीय नियम :

इसके अनुसार, किसी बन्द परिषथ की सीमा के अनुदिश चुम्बकीय क्षेत्र का रेखीय समाकलन चालन धारा तथा विस्थापन धारा के योग का uo गुना होता है।

ऐम्पियर मैक्सवेल परिपथीय नियम

वैद्युत तथा चुम्बकीय क्षेत्र के आयामो मे सम्बन्ध

वैद्युत तथा चुम्बकीय क्षेत्र के आयामो मे सम्बन्ध

अतः वैद्युत तथा चुम्बकीय क्षेत्रों का अनुपात मुक्त आकाश में प्रकाश की चाल के बराबर होता है।

वैद्युत चुम्बकीय स्पेक्ट्रम

सामान्यतः वैद्युत चुम्बकीय तरंगों के तरंगदैर्ध्य के बढ़ते क्रम या आवृत्ति के घटते क्रम में व्यवस्थित प्रतिरूप को वैद्युत चुम्बकीय स्पेक्ट्रम कहते है।

वैद्युत चुम्बकीय स्पेक्ट्रम

विद्युत चुम्बकीय स्पेक्ट्रम को नीचे अनेको भागों में विस्तार से दिया गया है:-

(1) रेडियो तरंगे :-

  • तरंगदैर्ध्य – रेडियो तरंगों की तरंगदैर्ध्य 1X10-1 से 1X10⁴मीटर होती है।
  • आवृत्ति –  रेडियो तरंगो की आवृत्ति 3×10⁹ से 3X10⁴  हर्टस तक  होती है।
  • उपयोग –  रेडियो तथा टी.वी संचारण में।

 (2) माइक्रो तरंगे :-

  • तरंगदैर्ध्य – माइक्रो तरंगों की तरंगदैर्ध्य 1 X 10-3 से 3 X 10-1 मीटर तक होती है।
  • आवृत्ति – माइक्रो तरंगों की आवृत्ति 3 X 1011 से 1 X 109 तक होती है।
  • उपयोग – रेडार मे व माइक्रोवेव ओवन मे ।

(3) अवरक्त विकिरण :-

  • तरंगदैर्ध्य  – अवरक्त विकिरण की तरंगदैर्ध्य 7×10-7 से   5X10-3 मी० के बीच में होती है।
  • आवृत्ति – अवरक्त विकिरण की आवृत्ति 4X10¹⁴ से 6X10¹⁰ हर्टस होती है।
  • उपयोग – पौध घरो मे पौधों को गर्म रखने मे, युद्ध के समय।

(4) द्रश्य विकिरण :-

  • तरंगदैर्ध्य – द्रश्य विकिरण की तरंगदैर्ध्य 4×10-7 से 7×10-7 मी. के बीच होती है।
  • आवृत्ति – द्रश्य विकिरण की आवृत्ति 7.5×10¹⁴ से 4×10¹⁴ हर्टस होती है।
  • उपयोग – अणुओं की संरचना तथा परमाणु के बाह्य कोशो मे इलेक्ट्रानिक विन्यास का पता लगाने मे।

(5) पराबैगनी विकिरण :-

  • तरंगदैर्ध्य – पराबैगनी विकिरण की तरंगदैर्ध्य 6X10-10 से 4×10-7 मी. तक होती है।
  • आवृत्ति – पराबैगनी विकिरण की आवृत्ति 5×1017 से  7.5X1014 हर्टस होती है।
  • उपयोग – नकली दस्तावेजो तथा अंगुली के निशान पता लगाने मे, खाने की वस्तुओं के संरक्षण मे ।

(6) एक्स किरणे :-

  • तरंगदैर्ध्य – एक्स किरणों का तरंगदैर्ध्य 1X10-13 से 3X10-8 मीटर के बीच होता है।
  • आवृत्ति – एक्स किरणो की आवृत्ति 3X10²¹ से 1X10¹⁶ हर्टस  होती है।
  • उपयोग – चिकित्सा विज्ञान में क्रिस्टलो की आन्तरिक संरचना ज्ञात  करने मे।

(7) गामा किरणे :

  • तरंगदैर्ध्य – गामा किरणों की तरंगदैर्ध्य 1X10-14 से  1X10-10 मीटर तक होती है।
  • आवृत्ति – गामा किरणों की आवृत्ति 3×10²² से 3X10¹⁸ हर्टस होती है।
  • उपयोग – परमाणु के नाभिक की संरचना के सम्बन्ध में सूचना देने  पर।

Chapter 1 – वैद्धुत आवेश तथा क्षेत्र
Chapter 2 – स्थिर विद्युतविभव एवं धारिता
Chapter 3 – विद्युत धारा
Chapter 4 – गतिमान आवेश और चुंबकत्व
Chapter 5 – चुंबकत्व एवं द्रव्य
Chapter 6 – वैधुतचुम्बकीय प्रेरण

Class 12 Physics Chapter 8 Notes in Hindi PDF Download

Tagged with: class 12 physics chapter 8 ncert notes in hindi | Class 12 Physics Chapter 8 Notes in Hindi | electromagnetic waves Notes in Hindi | physics chapter 8 class 12 notes in hindi | physics class 12 chapter 8 in hindi notes | physics class 12 chapter 8 notes in hindi

Class: Subject: ,

1 thought on “Class 12 Physics Chapter 8 Notes in Hindi वैद्युतचुम्बकीय तरंगे”

Have any doubt

Your email address will not be published. Required fields are marked *